More
    Homeदिल्लीमौसम विभाग के अनुसार 2 से 4 मई तक हो सकती है...

    मौसम विभाग के अनुसार 2 से 4 मई तक हो सकती है दिल्ली-एनसीआर में बारिश

    नई दिल्ली, दिल्ली-एनसीआर में सूरज की तपिश से परेशान लोगों को राहत मिलने वाली है। मौसम विभाग की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार अगले 72 घंटे में ही बरसात हो सकती है। इस बरसात के बाद मौसम के पारे में गिरावट होगी और तापमान 36 से 39 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच सकता है। आर.के. जेनामणि, वरिष्ठ वैज्ञानिक, IMD, दिल्ली ने बताया कि 2 से 4 मई तक दिल्ली-एनसीआर, राजस्थान, दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में बारिश हो सकती है। इस बारिश के बाद ही तापमान में गिरावट होगी।

    मालूम हो कि दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे उत्तर भारत में भीषण गर्मी का दौर जारी है। अप्रैल महीने में ही जून जैसी गर्मी पढ़ने लगी है और अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। ऐसे में मौसम विज्ञानी मई और जून में पिछले कुछ साल की तुलना में इस बार ज्यादा गर्मी पड़ने से संकेत पहले ही दे चुके हैं। यह भी कहा जा रहा है कि मई-जून महीने में दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में रिकार्डतोड़ गर्मी पड़ेगी।

    बता दें कि देश की राजधानी दिल्ली में अप्रैल का आल टाइम रिकार्ड (1969 से 2021 के बीच) 18 अप्रैल 2010 के नाम है, जब दिल्ली के मार्कर मौसम केंद्र सफदरजंग पर 43.7 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज हुआ था। वहीं. बृहस्पतिवार को तापमान 43.5 डिग्री तक पहुंच गया और यह 2011 से 2022 तक सबसे ज्यादा रहा। इसको देखते हुए आज यानि शुक्रवार(29 अप्रैल) को अधिकतम तापमान 44 डिग्री रहने का अनुमान है। इस बार अप्रैल में 54 साल का रिकार्ड टूट सकता है। जिस तरह न्यूनतम और अधिकतम तापमान में इजाफा होने के साथ गर्मी बढ़ रही है, ऐसे में इसकी पूरी संभावना बन रही है कि 54 साल का गर्मी का रिकार्ड टूट जाए।

    इसे भी पढ़े : कानपुर : बैंक से गहने चोरी होने की घटना के बाद लगी लाकरधारकों की लम्बी लाइन

    यहां यह भी उल्लेखनीय है कि अप्रैल महीने में अभी तक का आल टाइम रिकार्ड (1901 से 2021) तक 45.6 डिग्री सेल्सियस के नाम है, जो 29 अप्रैल 1941 को रिकार्ड हुआ था। वर्ष 2010 में अप्रैल के दौरान 10 दिन लू चली थी। इस साल नौ दिन हो चुके गए हैं। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी आर के जेनामणि ने ही बताया कि 25 फरवरी के बाद से कोई खास बारिश नहीं हुई है। 14 अप्रैल और 21 अप्रैल के बीच राजस्थान और हरियाणा में भी सिर्फ धूल भरी आंधी आई थी, लेकिन बारिश नहीं हुई थी। लंबे समय तक शुष्क मौसम रहने के कारण ही तापमान इतना अधिक दर्ज हो रहा है। अब मई माह में ही बारिश होने की संभावना बनी हुई है।

     

    Must Read