Homeलाइफस्टाइलडायबिटीज में आलू खाने के फायदे और नुकसान

डायबिटीज में आलू खाने के फायदे और नुकसान

आलू हर घर में प्रयोग में लाई जाने वाली सबसे आम सब्जियों में से एक है। यह हर मौसम में उपलब्ध होता है और इसे अन्य कई सब्जियों के साथ मिलाकर भी सेवन किया जा सकता है। भारत में आलू की अच्छी उपज रही है, सेहत के लिहाज से भी आलू को कई प्रकार से लाभकारी माना जाता है। आलू कई विटामिन्स और खनिजों का उत्कृष्ट स्रोत माना जाता है। एक मध्यम आकार के आलू (173 ग्राम) से शरीर के लिए आवश्यक कई प्रकार के पोषक तत्व आसानी से प्राप्त किए जा सकते हैं। इससे 161 कैलोरी, प्रोटीन ( 4.3 ग्राम), कार्ब्स (36.6 ग्राम), फाइबर (3.8 ग्राम) और विटामिन सी, विटामिन बी6, पोटैशियम और मैंगनीज जैसे शरीर के लिए अति आवश्यक पोषक तत्व आसानी से प्राप्त किए जा सकते हैं। अध्ययनों में पाया गया है कि आलू में पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर को स्वस्थ रखने में विशेष लाभकारी हो सकते हैं। क्या आलू वास्तव में स्वस्थ है? आलू चूंकि कार्बोहाइड्रेट का उत्कृष्ट स्रोत माना जाता है, ऐसे में अक्सर यह सवाल खड़ा होता रहता है कि क्या जिन लोगों को मधुमेह की समस्या है वह आलू खा सकते हैं? आइए इस बारे में शोध के आधार पर समझते हैं।

एंटीऑक्सीडेंट्स से होता है भरपूर – आलू फ्लेवोनोइड्स, कैरोटेनॉयड्स और फेनोलिक एसिड जैसे यौगिकों से भरपूर होते हैं। ये यौगिक मुक्त कणों के रूप में जाने जाने वाले हानिकारक अणुओं को निष्क्रिय करके शरीर में एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं। मुक्त कणों के कारण हृदय रोग, मधुमेह और कैंसर जैसी क्रोनिक बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। एक टेस्ट-ट्यूब अध्ययन में पाया गया कि आलू में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट, लिवर और पेट के कैंसर कोशिकाओं के विकास को कम करने में सहायक हैं।

पाचन को रखता है ठीक – आलू में मौजूद प्रतिरोधी स्टार्च, पाचन स्वास्थ्य में भी सुधार कर सकता है। जब प्रतिरोधी स्टार्च बड़ी आंत में पहुंचता है, तो यह आंतों के गुड बैक्टीरिया के लिए भोजन बन जाता है। ये बैक्टीरिया इसे पचाते हैं और इसे शॉर्ट-चेन फैटी एसिड ब्यूटायरेट में बदल देते हैं। अध्ययनों से पता चला है कि ब्यूटायरेट, बड़ी आंत में सूजन को कम कर सकता है, इसे कोलोरेक्टल कैंसर के खतरे को कम कर करने वाला भी माना जाता है।

आलू से होने वाले नुकसान – अध्ययनकर्ताओं के मुताबिक वैसे तो आलू खाने से शरीर को कोई नुकसान नहीं होता है, पर इसका अधिक सेवन पेट में सूजन, कब्ज और पेट दर्द जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है। इसके अलावा आलू के अधिक सेवन के कारण कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण उच्च रक्तचाप या इंसुलिन प्रतिरोध जैसी समस्याओं का जोखिम भी हो सकता है। हमेशा संयमित मात्रा में ही आलू का सेवन किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़िए –मुंबई इंडियंस ने किया बड़ा बदलाव

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates