More
    Homeहेल्थ & फिटनेसमास्क पहनने के फायदे के साथ है नुक्सान भी, जानिये क्या कहते...

    मास्क पहनने के फायदे के साथ है नुक्सान भी, जानिये क्या कहते है एक्सपर्ट

    नई दिल्ली। मार्च 2020 से जब से कोरोना वायरस महामारी शुरू हुई है, तभी से मास्क पहनना ज़रूरी कर दिया गया था। हालांकि, इसे पहनने में कई दिक्कतें आती हैं, लेकिन यह हमारी लाइफस्टाइल का हिस्सा बन चुका है। कई लोग ऐसे भी हैं जो मास्क से जुड़ी परेशानियों पर ध्यान देते हैं और इसके फायदों को भुला देते हैं। हर स्थिति की तरह मास्क के भी कुछ फायदे तो कुछ नुकसान हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा अनुशंसित, मास्क पहनने का एक फायदा है जिसे हल्के में नहीं लिया जा सकता क्योंकि यह हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करता है और हम इसे ठीक से उपयोग करके दूसरों की भी रक्षा करते हैं।

    यह भी पढ़ें : बांदा: युवक ने महिला को नौकरी दिलाने के नाम पर रूपये ठगे और छेड़खानी की

    मुंबई के ग्लोबल हॉस्पिटल में पल्मोनोलॉजी एंड क्रिटिकल केयर के सीनियर कंसल्टेंट, डॉ. हरीश चाफले का कहना है, ” यह सच है कि हम सभी एक दूसरे की खूबसूरत मुस्कुराहट को मिस करते हैं। यह सच है कि हमारी ज़िंदगी में काफी बदलाव आ गया है क्योंकि अब हमें लोगों के चेहरे के भाव देखने को नहीं मिलते। हम जानते हैं कि यह आदर्श नहीं है लेकिन सौभाग्य से हमें मास्क हमेशा के लिए नहीं पहनना है।”

    “आपने शायद मास्क पहनने के नुकसान के बारे में सुना होगा। जिसमें सांस लेने में दिक्कत, किसी की बात सुनने में परेशानी, एक्ने, चश्मे का फॉगी हो जाना आदि शामिल है। हम इससे सहमत हैं, लेकिन साथ ही मास्क पहनने के कई फायदे हैं, खासतौर पर इस महामारी के समय में।”

    मास्क पहनना फायदेमंद है या नुकसानदायक?

    मुंबई के मसीना अस्पताल में पल्मोनरी सलाहकार, डॉ. सुशील जैन ने बताया, मास्क का उपयोग कोरोना संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण उपायों के एक व्यापक पैकेज का हिस्सा है, जो कोविड-19 सहित कुछ श्वसन वायरल रोगों के प्रसार को सीमित कर सकता है। मास्क का उपयोग स्वस्थ लोगों की सुरक्षा के लिए किया जा सकता है। हालांकि, कोविड से बचने के लिए सिर्फ मास्क का उपयोग ही काफी नहीं है।

    आम जनता में स्वस्थ लोगों द्वारा मास्क के उपयोग के संभावित लाभों में शामिल हैं:

    • संक्रामक वायरल कणों से युक्त श्वसन बूंदों का प्रसार कम करने, जिसमें संक्रमित व्यक्ति भी शामिल हैं, जिनके लक्षण विकसित नहीं हुए हैं।
    • कलंक की संभावना कम हो जाती है और मास्क पहनने की स्वीकृति अधिक हो जाती है, चाहे फिर संक्रमण को रोकने के लिए मास्क पहना जा रहा हो या फिर कोविड-19 रोगियों की देखभाल करते वक्त।
    • लोगों को यह महसूस कराना कि वे वायरस के प्रसार को रोकने में योगदान देने में भूमिका निभा सकते हैं
    • संचरण रोकथाम से जुड़े व्यवहार को प्रोत्साहित करना, जैसे हाथ की स्वच्छता और आंखों, नाक और मुंह को बार-बार न छूना।
    • तपेदिक और इन्फ्लूएंज़ा जैसी अन्य श्वसन संबंधी बीमारियों के संचरण को रोकना और महामारी के दौरान अन्य बीमारियों के बोझ को कम करना।

    मास्क के इस्तेमाल से जुड़े नुकसान

    • सिर दर्द या सांस से जुड़ी दिक्कतें, जो इस्तेमाल किए जा रहे मास्क पर निर्भर करता है।
    • त्वचा से जुड़ी दिक्कतें, जिसमें घाव, सूजन और मुहांसों का बिगड़ना शामिल है, जो अक्सर लंबे समय तक मास्क पहनने की वजह से होता है।
    • स्पष्ट रूप से संवाद करने में कठिनाई, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो बहरे हैं या जिनकी सुनने की क्षमता या उपयोग कम है और जो होंठों को पढ़कर समझते हैं।
    • मास्क पहनने में कष्ट
    • मास्क को उपयोग के बाद सही जगह पर न फेंकना।

    मास्क पहनते समय कार्बन डाइऑक्साइड अंदर लेना हानिकारक हो सकता है?
    यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) का कहना है कि मास्क पहनने से आप जिस हवा में सांस लेते हैं उसमें कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) का स्तर नहीं बढ़ता। CO2 के बारे में अफवाहों पर, सीडीसी का कहना है, “कपड़े के मास्क और सर्जिकल मास्क चेहरे पर एक एयरटाइट फिट प्रदान नहीं करते हैं।

    जब आप सांस छोड़ते हैं या बात करते हैं, तो CO2 मास्क के माध्यम से हवा में निकल जाता है। CO2 अणु इतने छोटे होते हैं कि आसानी से मास्क से गुज़र सकते हैं। श्वसन की बूंदें जिसके कारण कोविड-19 संक्रमण फैलता है, CO2 की तुलना में बहुत बड़ी होती हैं और मास्क से आसानी से गुज़र नहीं सकतीं।”

    मास्क की जगह और क्या पहना जा सकता है?
    इस वक्त फेस शील्ड्स भी उपलब्ध हैं, लेकिन यह सिर्फ आंखों की कुछ हद तक सुरक्षा कर सकते हैं, लेकिन मास्क जितनी सुरक्षा नहीं देते।

    Must Read