Homeलाइफस्टाइलमाइग्रेन के दर्द से बचने के लिए ये करे

माइग्रेन के दर्द से बचने के लिए ये करे

दुनिया में करीब एक अरब से अधिक लोग माइग्रेन की समस्या से पीड़ित है. अगर आपको भी माइग्रेन की समस्या है तो आपको किसी हेल्थ एक्सपर्ट से राय लेनी चाहिए. हालांकि डॉक्टर को दिखाने से पहले भी आप कुछ ऐसे काम कर सकते हैं जिससे माइग्रेन की समस्या को कम किया जासकता है या फिर इसे बढ़ने से रोका जा सकता है.कुछ ऐसे तरीके हैं जिससे आप समझ सकते हैं कि आप माइग्रेन से पीड़ित हैं या नहीं और घर पर रहकर ही दर्द को कम करने के उपाय कर सकते हैं.

ये भी पढ़िए –अब कांग्रेस की शुरू होगी असम जोड़ो यात्रा

माइग्रेन के लिए घातक है तनाव
माइग्रेन के मरीजों को तनाव से बचना चाहिए. तनाव की कंडीशन में सिरदर्द अधिक हो सकता है. जीवन में शांति बनाए रखने के लिए जो कर सकते हैं करें और आपको जिस बात में खुशी मिलती है वह काम करें. अपने आप को व्यस्त रखने की कोशिश करें. एक ही जगह पर बैठक घंटो काम करने से बचें.

पुदीना रखे साथ में
अगर आप माइग्रेन के एक ऐसे मरीज है जिसे किसी परफ्यूम या फिर सेंट से सिरदर्द होता है तो आपको अपने साथ पुदीना या फिर कॉफी बीन्स को अपने साथ रखना चाहिए.

अरोमाथेरेपी
कई बार कुछ खास तरह की महक सिरदर्द में राहत देती हैं. अगर आप पेपरमिंट को सूंघते हैं तो आपको थोड़ी राहत मिल सकती है जबकि वहीं लैवेंडर की सुगंध आपको एक नई चेतना देती है. आप पेपरमिंट और लैवेंडर के ऑयल को कलाई में भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

तेज रोशनी की समस्या
क्या आपको तेज रोशनी में दिक्कत होती है? अगर ऐसा है तो आभी माइग्रेन से पीड़ित लोगों में से एक हो सकते हैं. जिन्हें माइग्रेन की समस्या होती है वे प्रकाश की प्रति ज्यादा संवेदनशील होते हैं और इसे फोटोफोबिया कहा जाता है. इससे बचने के लिए आप कमरे में कर्टेन लगा सकते हैं और बाहर निकलने पर काला चश्मा पहन सकते हैं.

बनाए एक फिक्स शेड्यूल
माइग्रेन से पीड़ित लोगों के लिए जरूरी है कि वे अपने रात को सोने और जगने का एक शेड्यूल बनाएं. इसके साथ ही सुबह का नाश्ता और लंच के साथ साथ डिनर का भी टाइम टेबल सेट करें. कोशिश करें कि हर दिन व्यायाम जरूर करें.

शोर को कम करें
जिस तरह से तेज रोशनी माइग्रेन के लिए घातक है ठीक उसी तरह से तेज आवाज भी माइग्रेन के लिए नुकसानदेह है. माइग्रेन से पीड़ित लोगों को कोशिश करनी चाहिए की वे शांत जगह पर रहें. लेकिन अगर ऐसा मुमकिन नहीं है तो आप अपने साथ इयरप्लग रखें और शोरगुल वाली जगह पर इसका इस्तेमाल करें.

बर्फ से मिलेगी राहत
माइग्रेन को लेकर हुए रिसर्च में यह भी सामने आया है कि दर्द के दौरान अगर गर्दन के चारो ओर एक ठंडा पैक रखें तो इससे दर्द में कमी महसूस होती है. हालांकि एक्सपर्ट अभी इस बारे में पूरी तरह से कंफर्म नहीं हैं कि आखिर यह किस तरह से काम करता है. इसके लिए बरफ या ठंडे पानी से भरे थैले या फिर कपड़े का इस्तेमाल किया जा सकता है. इससे सूजन और दर्द दोनों में राहत मिलती है.

ब्लू किरणों से करें बचाव
माइग्रेन की समस्या को ब्लू किरणें और अधिक बढ़ा देती हैं. आमतौर पर जब हम कंप्यूटर या फिर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं तो इससे निकलने वाली ब्लू रेज माइग्रेन को ट्रिगर करती हैं और हमें दर्द का अहसास होता है. अगर आप माइग्रेन से पीड़ित हैं तो कंप्यूटर या मोबाइल का कम से कम इस्तेमाल करें.

ये भी पढ़िए –खेत में शादीशुदा महिला से दो युवकों ने किया रेप

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates