Homeपॉलिटिक्सराजस्थान में बिजली संकट के कारण जनता परेशान, घंटो तक की जा...

राजस्थान में बिजली संकट के कारण जनता परेशान, घंटो तक की जा रही कटौती

राजस्थान में बिजली संकट गहराता जा रहा है। पर्याप्त कोयला नहीं होने के कारण पावर प्लांट में बिजली का उत्पादन नहीं हो पा रहा है। बिजली कम्पनियों को पावर एक्सचेंज से अधिकतम मूल्य 12 प्रति यूनिट की दर से भी बिजली नहीं मिल रही है। गर्मी बढ़ने के साथ ही बिजली की मांग 35 फीसदी तक बढ़ गई है। राज्य में 4 करोड़ 80 लाख यूनिट प्रतिदिन की कमी है। इस कमी को पूरा करने के लिए बृहस्पतिवार से बिजली कटौती शुरू की गई है। हालात सामान्य होने तक बिजली कटौती जारी रहेगी। उर्जामंत्री भंवर सिंह भाटी ने बताया कि जयपुर सहित सभी संभागीय मुख्यालयों पर सुबह 7 से 8 बजे तक और शहरों में सुबह 6 से 9 बजे तक बिजली की कटौती होगी । ग्रामीण इलाकों में स्थानीय प्रशासन कटौती को लेकर अपने स्तर पर निर्णय लेंगे । उधोगों को शाम 6 से रात 10 बजे तक लोड़ क्षमता की केवल 50 फीसदी बिजली दी जाएगी ।

किसानों को सिंचाई के लिए रात के समय बिजली दी जाएगी । किसानों को दी जाने वाली बिजली का समय एक घंटे कम कर दिया गया है। उर्जा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि देशव्यापी कोयला संकट के कारण बिजली उत्पादन प्रभावित हो रहा है। अतिरिक्त मांग के अनुसार तापीय बिजली घरोंको पर्याप्त कोयले की आपूर्ति नहीं होने के कारण उत्पादन इकाईयां पूरी क्षमता के साथ उत्पादन नहीं कर पा रही है। प्रदेश में थर्मल पावर स्टेशन की बिजली उत्पादन क्षमता 10,110 मेगावाट है,जिनसे करीब 6600 मेगावाट बिजली का प्रतिदिन उत्पादन हो रहा है।

इसे भी पढ़े :ममता सरकार की पहली वर्षगांठ पर बंगाल की एक रैली में शामिल होंगे गृहमंत्री

जानकारी के अनुसार जून तक बिजली कटौती जारी रह सकती है। हालांकि एक्सचेंज में बिजली मिलने पर कटौती के समय में कमी की जा सकती है। उधर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि राज्य सरकार बिजली का प्रबन्ध करने में विफल साबित हुई है। सरकार ने पहले से तैयारी नहीं कर के रखी थी, जिससे अब आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

 

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates