Homeअपराधविदेश भेजने के नाम पर पिता पुत्र ने ठग डाले लाखों

विदेश भेजने के नाम पर पिता पुत्र ने ठग डाले लाखों

कुरुक्षेत्र से विदेश भेजने के नाम पर धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। जहां विदेश भेजने के नाम पर करीब 14 लाख की ठगी की गई। सदर थाना पुलिस ने विदेश भेजने के नाम पर 14.10 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोप में पिता-पुत्रों के खिलाफ केस दर्ज किया है। आरोपितों ने युवक को जापान भेजने के नाम पर धोखाधड़ी की थी। युवक को इंडोनेशिया में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, जहां उसे उसे वापस भारत भेज दिया। पुलिस आरोपितों की तलाश कर रही है।

यह भी पढ़ें : DCGI ने 5-12 साल के बच्चों के लिए कार्बेवैक्स और 6-12 साल के बच्चों के लिए कोवैक्सीन के इस्तेमाल की दी मंजूरी

जिंदल सिटी निवासी अशोक कुमार ने सदर थाना पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि वह गांव भूखड़ी निवासी अमरजीत को एक साल से जानता है। उसे बताया कि व लोगों को विदेश भेजने का काम करता है। शिकायतकर्ता ने अपने पुत्र मंदीप कुमार को विदेश भेजने के लिए बातचीत की। आरोपित ने उसे कहा कि वह उसके पुत्र को जापान भेज देगा। जिसके लिए उसे 15 लाख रुपये देने होंगे। उसका पुत्र दो महीने में विदेश पहुंच जाएगा। आरोपित अमरजीत के पुत्र सचिन व सुमित भी विदेश में रहते हैं। वह आरोपित की बातों में आ गया और अपने पुत्र के कागजात, पासपोर्ट, फोटो, पैन कार्ड व वोटर कार्ड भी अमरजीत को दिए। उसने अलग-अलग तिथियों में आरोपित अमरजीत के खाते में 2.10 लाख रुपये ट्रांसफर किए। उसने आरोपित को सात लाख रुपये नकद दिए। आरोपित सचिन व सुमित ने उसे फोन पर बताया कि जल्द ही मंदीप का वीजा आ जाएगा।

आरोपितों ने उसे वीजा दिया और पुत्र इंडोनेशिया चला गया, लेकिन इंडोनेशिया में एयरपोर्ट पर ही उसे रोक लिया। उन्होंने बताया कि वीजा फर्जी है और उसे एंट्री नहीं दी जाएगी। मंदीप ने उसे फोन पर बताया कि उसका वीजा फर्जी है और उसे एंट्री नहीं मिली हे। इस बारे में जब उसने आरोपित अमरजीत से संपर्क किया तो उसे बताया कि वह मंदीप को वहां से निकलवा देगा, इसके लिए पांच लाख रुपये का इंतजाम करें। आरोपित ने पांच लाख रुपये की राशि किसी जगतार सिंह के खाते में डलवाई। आठ अप्रैल 2021 को उसका पुत्र मंदीप वापस भारत आ गया।

जब वे अमरजीत के घर गए तो वहां एक अन्य आरोपित व उसकी पत्नी ने उनके साथ गाली-गलौज किया। बाद में इस मामले में गांव के सरपंच जरनैल सिंह, गुलजारी सिंह, सुरेश कुमार, रतन लाल व कुछ मौजिज लोगों की पंचायत भी हुई। जिसमें आरोपित ने तीन माह में पैसे वापस करने का वादा किया था। मगर आरोपित ने पैसे वापस नहीं किए। पुलिस ने शिकायत के आधार केस दर्ज किया है। मामले की जांच एएसआइ मोमन सिंह को सौंपी है। जांच अधिकारी ने बताया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates