Homeदेशहरियाणा में आग लगने से 500 एकड़ फसलें जलकर खाक, किसानों में...

हरियाणा में आग लगने से 500 एकड़ फसलें जलकर खाक, किसानों में हताशा

पानीपत, आंधी के बाद भड़की आग ने सैकड़ों किसानों की आंखों में आंसू ला दिए हैं। किसी ने ब्याज पर रुपये लेकर तूड़ी स्टाक कर रखी थी तो किसी ने जमा पूंजी लगाकर तूड़ी खरीदी थी। आग ने इनकी पूंजी को राख बना दिया। खेतों में 40 जगहों पर आग लगी। पांच सौ एकड़ से अधिक जगह पर गेहूं के फाने जलने की आशंका है। कुछ जगहों पर पड़ोसी किसानों ने अवशेष जलाए थे। इनकी वजह से आग भड़कती गई और दूसरे खेतों में पहुंच गई। इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज किया है।

राक्सेड़ा के दतौली रोड पर एक मुर्गी फार्म के स्टोर को भी नुकसान पहुंचा है। आग से अंडे की ट्रे व वहां रखे आलू के कट्टे जल गए हैं। किसानों और तूड़ी कारोबारियों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा। पटवारी अब गांव-गांव जाकर नुकसान का आकलन कर रहे हैं। आंधी के कारण फानों में लगी आग फैल गई। इस कारण पेड़-पौधों को भी नुकसान पहुंचा है। दमकल की गाड़ियां मनाना के बाद राक्सेड़ा में आग बुझाने में जुटी रही। अगले दिन दोपहर तक आग पर काबू पाया जा सका। एसडीएम रात के समय ही राक्सेड़ा गांव में जायजा लेने पहुंचे। पटवारी, नंबरदार व पूर्व सरपंच की तूड़ी के कूप के पास ड्यूटी लगा दी। गन्नौर से भी दमकल मंगाया गया।

मतलौडा ब्लाक के गांवों में लगी आग, 13 एकड़ में जले फाने

पानीपत के गांव मतलौडा, नारा, वैसर, कवि, आसन गांव के खेतों में बने तूड़ी के कूपों को जला दिया। नारा गांव में तेजबीर, दिलबाग व राकेश, मतलौड़ा में गजे सिंह के तूड़ी के कूप व फाने जल गए। कवि में सुनील कुमार की 13 एकड़ के फाने जल गए। कई जगह बिजली के खंभे टूट गए। पूरी रात क्षेत्र में बिजली व्यवस्था ठप रही। राकेश के दो के तूड़ी के कूप जलकर राख हो गए। मितलौडा में गजे सिंह के छह तूड़ी के कूप व एक तूड़े का गोदाम जल गया।

इसे भी पढ़े:इजरायल के प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट को जान से मारने की मिली धमकी , बढ़ाई गयी सुरक्षा

किसानों ने अवशेष जलाए, दूसरों की फसल भी जली, केस दर्ज

पानीपत के सनौली खुर्द गांव में एक किसान पर आग लगाने का आरोप लगा है। उसने खेत में फसल के अवशेष जलाए। इसी आग से दूसरे किसान की सब्जी और अन्य फसल जलकर खाक हो गई। रामड़ा गांव निवासी किसान जमशेद ने पुलिस को शिकायत दी कि उसने सनौली खुर्द गांव निवासी कृष्ण की जमीन ठेके पर लेकर सब्जी व अन्य फसल उगा रखी थी। सोमवार शाम के समय तामशाबाद गांव निवासी चिंटू अपने खेत में फसल के अवशेष जलाने के लिए आग लगाने लगा तो उसने मना कर दिया। वह नहीं माना और उसने फसल के अवशेषों में आग लगा दी। जिससें उसकी ईख व फाने जलकर राख हो गए।

किसानों ने फानों में लगाई आग

वहीं, जाटल गांव में एक किसान ने गेहूं के फानों में आग लगा दी। पड़ोसी किसान की दो एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। दो किसानों के खेतों के फाने जल गए। जाटल गांव के सेवानंद ने पुलिस को शिकायत दी कि उसकी गांव में दो एकड़ गेहूं की फसल है। उसके साथ ही संदीप, भगत, जाटल गांव के बलिंद्र की नौ एकड़ जमीन है। सोमवार शाम को चार बजे जाटल गांव के जयसिंह ने ठेके पर ली जमीन में गेहूं के फानों में आग लगा दी। जबकि उसने मना किया था। आग संदीप, भगत के गेहूं के फानों में लगी। इसके बाद उसकी दो एकड़ गेहूं की फसल जल गई। जय सिंह ने जान बूझकर आग लगाई।

दस गांवों के खेतों में जले फाने सनौली गांव में रातभर रहा पहरा

सनौली ब्लाक के दस गांव आग की चपेट में आ गए। अधमी, नन्हेड़ा, नवादा, छाजपुर, धनसौली, कुराड़, नगला, गढी बैसक, जलालपुर, रिशपुर सहित आसपास के दस गांवों में आग लगी। आठ एकड़ ईंख की फसल गांव नगला, अधमी में झोपड़ी, नन्हेड़ा, कुराड़, धनसौली, जलालपुर, रिशपुर में तीन सौ एकड़ गेहूं के फाने जल गए। जलालपुर, कुराड़ के पास वन विभाग की ओर से सड़क किनारे लगाए गए 180 पौधे जल गए। सनौली थाना में रिपोर्ट दी गई है। पुलिस टीम भी आग बुझाने में लगे रही। एसएचओ जगजीत सिंह के दोनों हाथों की हथेलियां आग में झुलस गईं। बिजली निगम ने आरडीएस (ग्रामीण) व एपी (कृषि) फीडर की दिन के समय सप्लाई को बंद कर दिया गया था।

राक्सेड़ा के तूड़ी कारोबारियों को लाखों का नुकसान

’ कारोबारी विनोद राक्सेड़ा ने बताया कि उसके तीन कूपों में 2410 क्विंटल तूड़ी जलकर राख हो गई। कूपों से दूर रेपर और ट्राली भी आग की चपेट में आ गए। 50 एकड़ में खरीद कर रखी गई फांस भी जल गई।

’ कारोबारी अदरीश राक्सेड़ा ने बताया कि उसके चार कूपों में करीब 2000 क्विंटल तूड़ी, पास रखी दो ट्राली व एक रेपर जले हैं। 80 एकड़ में खरीद कर रखी गई फांस भी आग की भेंट चढ़ी है।
कारोबारी धर्मबीर राक्सेड़ा ने बताया कि उसके दो कूपों के 950 क्विंटल सहित खुले में रखी तूड़ी जल गई। ब्याज पर पैसा लेकर उसने तूड़ी का कारोबार शुरू किया था।

किसानों की फसल को नुकसान, 11 एकड़ में ईंख जली

रिंकू राक्सेड़ा ने बताया कि आग से दो किला ईख, आधा एकड़ गेहूं और 10 एकड़ फांस को नुकसान पहुंचा है। रिंकू ने बताया कि उसके साथी बुढ़नपुर ने अपने 11 किले ईंख, करीब तीन किले गेहूं और सात किले की फांस भी जली है। इसके अलावा हथवाला के किसान महेश त्यागी व सतीश के एक-एक किले, अवनीश के तीन किले, ब्रह्मदत्त और संदीप के 250-250 क्विंटल, राकेश के 450 क्विंटल, जयभगवान के 180 क्विंटल सहित दीपक त्यागी के ईख की फसल जली है। मच्छरौली के किसान लोकेश की एक एकड़ ईंख व सुरेश के 15 एकड़ फाने को भी जले।

दौड़ती रहीं दमकल की गाड़ियां

आग लगने से दमकल विभाग की गाड़ियां रातभर दौड़ती रहीं। आग ज्यादा जगह पर लगने के कारण दमकल विभाग के पास गाड़ियां कम पड़ गई। ज्यादातर आग खेतों में फांस में लगी है। इससे पशुओं की चारे की कमी बढ़ गई हैं। आसपास के गांवों में 18 बिजली के खंभे व तार आंधी में गिर गए।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates