नागालैंड की खूबसूरती के बारे में जितना कहा जाए उतना कम है। नागालैंड अपनी प्राकृतिक सुंदरता, संस्कृति, और स्वादिष्ट व्यंजनों के लिए जाना जाता है। यहां का शांत वातावरण, प्राकृतिक नजारे आपका मन मोह लेंगे। अगर आप भी प्रकृति प्रेमी हैं, तो यह जगह आपके लिए बेहद ही खास है। यहां आप ट्रेकिंग, जंगल कैंपिंग और रॉक क्लाइम्बिंग जैसी कई गतिविधियां कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : देवरिया जिले में पति-पत्नी का एक अजीबो गरीब मामला आया सामने

कहा जाता है कि अगर आप भारत में ही किसी अलग देश की संस्कृति को देखना चाहते हैं, तो नागालैंड जरूर जाएं। इस राज्य में आज भी आदिवासी जनजाति देखने को मिल जाती हैं। यहां घूमने के लिए एक से बढ़कर एक जगह हैं। तो आइए जानते हैं नागालैंड की कुछ खूबसूरत जगहों के बारे में।

कोहिमा

कोहिमा
कोहिमा

कोहिमा को केवीरा के नाम से भी जाना जाता है। समुद्र तल से 1500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित कोहिमा चारों ओर से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। अगर आप भी नागालैंड जाने का प्लान बना रहे हैं, तो कोहिमा जरूर जाएं। यहां पर कई खूबसूरत पर्यटन स्थल हैं। जहां आप अपने परिवार, दोस्तों और बच्चों के साथ घूम सकते हैं। जैसे कोहिमा संग्रहलय, कोहिमा वॉर सिमेट्री, इंटेंगकी वन्यजीव अभ्यारण आदि।

फेक

फेक
फेक

फेक अपनी शानदार पहाड़ियों, वन्य जीवों और विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों के लिए जाना जाता है। यहां का शांत वातावरण, नदियां, झीलें, प्राकृतिक सुंदरता लोगों को अपनी ओर आकर्षित करती है। अगर आप भी गर्मियों की इस चिलचिलाती धूप से परेशान हैं, तो फेक जरूर जाएं।

मोकोकचुंग

मोकोकचुंग
मोकोकचुंग

मोकोकचुंग के बिना आपका नागालैंड का ट्रिप अधूरा है। मोकोकचुंग नागालैंड का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां आप जिला संग्रहालय में संरक्षित कलाकृतियों को भी देख सकते हैं।

दीमापुर

दीमापुर
दीमापुर

नागालैंड के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है दीमापुर। यह शहर हवाई उड़ान के माध्यम से सीधे जुड़ा हुआ है। जिस कारण साल भर यहां पर्यटकों का तांता लगा रहता है। दीमापुर की हसीन वादियां आपको धरती पर ही स्वर्ग का अहसास कराती हैं।

खोनोमा गांव

खोनोमा गांव
खोनोमा गांव

खोनोमा गांव एक बेहद ही खूबसूरत जगह है। इसे एशिया का पहला ग्रीन विलेज माना जाता है। 700 साल पुराना यह गांव हरियाली से भरा पड़ा है। यहां के घरों को प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करके बनाया गया है। जिसका उद्देश्य आने वाले समय में प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए चिंता व्यक्त करना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here