Homeअपराधरेप के विषय में सच बोलने पर पति ने दिया पत्नी को...

रेप के विषय में सच बोलने पर पति ने दिया पत्नी को तलाक

ग्वालियर में शादी के बाद सुहागरात पर दूल्हे के साथ अपनी जिंदगी का कड़वा सच शेयर करना दुल्हन को भारी पड़ गया। नए रिश्ते की नींव सच्चाई से रखते हुए दुल्हन ने दूल्हे को बताया कि शादी से पहले उसके साथ रेप हुआ था। जिसके बाद दूल्हे को लगा कि इतनी बड़ी बात छुपाकर ये शादी की गई है। नाराज दूल्हा अगले ही दिन दुल्हन को मायके छोड़ आया। साथ ही उसने विवाह को शून्य घोषित कराने का आवेदन भी फैमिली कोर्ट में लगा दिया।

कोर्ट ने दुल्हन को भी अपनी बात रखने का पूरा समय दिया, लेकिन तीन साल बाद भी उसने कोर्ट जाकर अपना पक्ष नहीं रखा। जिसके बाद कोर्ट ने विवाह शून्य घोषित करने का आदेश पारित कर दिया।

यह भी पढ़ें : बंगाल में बोर्ड एग्जाम में बच्चो ने कॉपी पर लिखा ‘खेला होबे’

परिवार से बात कर मायके छोड़ आया
ग्वालियर निवासी 25 साल के युवक की शादी 2019 में ग्वालियर की रहने वाली 21 साल की युवती से हुई थी। सुहागरात को वह दुल्हन से बात करते हुए अपने बारे में बता रहा था। दुल्हन ने भी अपने निजी जीवन की कुछ बातें उसके साथ शेयर कीं। उसने दूल्हे को शादी से पहले उसके साथ हुए रेप की बात बता दी। दूल्हे ने अपने परिवार को यह बात बताई और सभी के फैसले के बाद दुल्हन को मायके छोड़ आया।

मामा के लड़के ने किया था दुष्कर्म
सच का पता चलने के बाद दूल्हा, दुल्हन को साथ रखने को तैयार नहीं हुआ तो दोनों परिवारों के बीच पंचायत हुई। जब इस मामले की सच्चाई सामने आई तो सब हैरान रह गए। लड़की के साथ जिसने दुष्कर्म किया, वह उसके मामा का लड़का था। शादी टूट जाने के बाद दुल्हन ने आरोपी युवक के खिलाफ दुष्कर्म का केस भी दर्ज कराया, लेकिन इसके बाद भी दूल्हा उसे रखने के लिए तैयार नहीं हुआ। दूल्हे ने कोर्ट में कहा कि ये धोखे से किया गया विवाह है, इसे मान्य नहीं किया जा सकता है।

फैमिली कोर्ट से विवाह को शून्य घोषित कराया
इस मामले में दूल्हे ने 2019 में ही फैमिली कोर्ट में धोखे में रखकर की गई शादी को शून्य घोषित कराने के लिए आवेदन दिया था। फैमिली कोर्ट ने युवक की पत्नी से जवाब के लिए नोटिस जारी किया, लेकिन वह हाजिर नहीं हुई। फिर मार्च 2020 के बाद कोविड और टोटल लॉकडाउन के चलते यह केस सुनवाई में नहीं आ सका।

पहली, दूसरी व तीसरी लहर के बीच में जब-जब कोर्ट खुले तो सुनवाई हुई। कई बार कोर्ट ने युवक की पत्नी को पक्ष रखने का समय दिया, लेकिन पत्नी लंबे समय तक जवाब देने नहीं आई। इसके बाद कुछ दिन पहले पति के तर्क के आधार पर कोर्ट ने विवाह को शून्य घोषित कर दिया।

 

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates