More
    Homeउत्तर प्रदेशअगर ना मरता लादेन तो अमेरिका पर हो सकता था 9/11 जैसा...

    अगर ना मरता लादेन तो अमेरिका पर हो सकता था 9/11 जैसा अटैक

    वॉशिंगटन: सितंबर 9, 2001 की तरीख अमेरिका के इतिहास का सबसे काला अध्याय है। इसी दिन अमेरिका में अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ था। इस हमले में अमेरिका का वर्ल्ड ट्रेड सेंटर जमींदोज हो गया था। हमले का मास्टरमाइंड ओसामा बिन लादेन था, जिसे अमेरिका ने 2011 में पाकिस्तान में मार गिराया था। अब नए दस्तावेजों के सामने आने के बाद पता चला है कि ओसामा इसी तरह के और भी हमले करना चाहता था। इसमें वह ट्रेनों को पटरी से उतारने और प्राइवेट जेट को हथियारों की तरह इस्तेमाल करना चाहता था।

    ओसामा को 2011 में ढूंढ़ने और मारने वाली नेवी सील की टीम ने पांच लाख से ज्यादा पत्र और फाइल जब्त किए थे। एक इस्लामिक स्कॉलर ने इनका वर्षों अध्ययन किया है, जिसमें ओसामा के शैतानी दिमाग का खुलासा हुआ है। न्यू अमेरिका के अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा कार्यक्रम के सदस्य नेली लाहौद ने कहा, ‘आतंकियों को पता था कि हवाईअड्डों पर सुरक्षा बहुत सख्त हो गई है, इसलिए वह अन्य तरीकों के जरिए आतंक फैलाना चाहते थे। वह प्राइवेट जेट का इस्तेमाल करना चाहते थे।’

    यह भी पढ़ें : गुजरात में जिला प्रशासन का बुलडोज़र देख खुद ही अपना घर गिराने लगे लोग

    ट्रेन को पटरी से उतारना चाहता था ओसामा
    उन्होंने आगे कहा कि ओसामा अमेरिकी लोगों को मारने के लिए ट्रेनों का इस्तेमाल करना चाहता था। वह चाहता था कि किसी ट्रेन की 40 फीट तक की पटरी को हटा दिया जाए, ताकि ट्रेन पलट जाए। डॉक्यूमेंट में ओसामा ने बताए हैं कि आखिर इसके लिए किस तर के टूल इस्तेमाल में लिए जाएं।

    उन्होंने कहा कि 9/11 के हमलों के बाद ओसामा छिपने के दौरान बुरी तरह डरा हुआ था। वह इस कदर खौफ में था कि उसने तीन साल तक अपने गुर्गों से बात नहीं की थी, बाद में 2004 में उनके बीच पत्र व्यवहार शुरू हुआ। अमेरिका के अलावा ओसोमा बिन लादेन अन्य हमलों की प्लानिंग भी कर रहा था। डॉक्यूमेंट्स के मुताबिक मरने से एक साल पहले 2010 में बिन लादेन अफ्रीका और खाड़ी देशों के कई क्रूड ऑयल टैंकर और समुद्री मार्गों पर हमले की प्लानिंग कर रहा था

    जहाज को डुबाने का बताया था प्लान
    उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि बिन लादेन औद्योगिक अर्थव्यवस्था के लिए क्रूड ऑयल को उसी तरह महत्वपूर्ण मानता था जैसे इंसानों के शरीर में खून की जरूरत होती है। लगातार बहते खून से किसी व्यक्ति के मरने की संभावना कम है, लेकिन वह कमजोर हो जाएगा। क्रूड ऑयल के जरिए इसी तरह ओसामा भी अमेरिकी अर्थव्यवस्था को कमजोर करना चाहता था। उसने एक पत्र में लिखा था कि विस्फोटक से भरी नाव को एक जहाज के मुहाने से सटा कर धमाका करना चाहिए, ताकि उसके बचने की संभावना न रहे।

    Must Read