Homeदेशभारत के विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल महीने के दौरान देखी...

भारत के विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल महीने के दौरान देखी गई तेजी

नई दिल्ली, एक मासिक सर्वेक्षण में सोमवार को कहा गया है कि उत्पादन के साथ-साथ फैक्ट्री ऑर्डर में तेजी से बढ़ोतरी और अंतरराष्ट्रीय बिक्री में नए सिरे से विस्तार के बीच भारत के विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल महीने के दौरान तेज वृद्धि देखी गई है। एसएंडपी ग्लोबल इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) मार्च में 54.0 से बढ़कर अप्रैल में 54.7 हो गया, क्योंकि कोरोना प्रतिबंधों में कमी से मांग का समर्थन जारी रहा है। अप्रैल पीएमआई डेटा ने लगातार दसवें महीने के लिए समग्र परिचालन स्थितियों में सुधार की ओर इशारा किया। बता दें कि पीएमआई 50 से ऊपर होता है तो इसका मतलब विस्तार होता है, जबकि 50 से नीचे का स्कोर संकुचन को दर्शाता है।

इसे भी पढ़े :पंजाब में दर्ज मामले में हाई कोर्ट ने कुमार विश्‍वास की गिरफ्तारी पर लगाई रोक

एसएंडपी ग्लोबल में इकोनॉमिक्स एसोसिएट डायरेक्टर पोलियाना डी लीमा ने कहा कि ‘अप्रैल के दौरान भारतीय विनिर्माण पीएमआई सकारात्मक रहा है और मार्च में से बेहतर हुआ है।’ उन्होंने कहा कि ‘फैक्ट्रियों ने बिक्री और इनपुट खरीद में चल रही वृद्धि के साथ, उपरोक्त प्रवृत्ति गति से उत्पादन को बढ़ाना जारी रखा। इससे लगता है कि निकट अवधि में विकास जारी रहेगा।’ मार्च में नौ महीने के पहले संकुचन के बाद, अप्रैल के आंकड़ों ने निर्यात के ऑर्डर्स में पलटाव दिखा। वृद्धि की दर पिछले जुलाई के बाद से ठोस और सबसे मजबूत रही।

इस बीच, कमोडिटी की बढ़ती कीमतों, रूस-यूक्रेन युद्ध और अधिक परिवहन लागत के कारण मुद्रास्फीति का दबाव भी बढ़ा। इनपुट कीमतों में पांच महीने में सबसे तेज गति से वृद्धि हुई, जबकि आउटपुट चार्ज मुद्रास्फीति 12 महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई। लीमा ने कहा कि ‘इन नए परिणामों से मुद्रास्फीति के दबावों का पता चला क्योंकि ऊर्जा की कीमतों में अस्थिरता, इनपुट्स की वैश्विक कमी और यूक्रेन में युद्ध ने खरीद लागत को बढ़ा दिया। कंपनियों ने अपनी फीस में एक साल में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी करके इस पर प्रतिक्रिया दी।’

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates