Homeपॉलिटिक्सकिसान सम्मान निधि और पीपीपी नहीं भर रहे आयकर रिटर्न

किसान सम्मान निधि और पीपीपी नहीं भर रहे आयकर रिटर्न

पानीपत, केंद्रीय प्रत्यक्ष बोर्ड (सीबीडीटी) के ज्यादा से ज्यादा आयकर विवरणी दाखिल होने के प्रयास को किसान सम्मान निधि सहित परिवार पहचान पत्र ने झटका दिया है। आयकर विवरणी दाखिल करने की संख्या बढ़ने के स्थान पर घटती जा रही है। जिससे कम लोगों को आयकर दायरे में आ रहे हैं।किसानों को किसान सम्मान निधि के तहत 6000 रुपये सरकार दे रही है। यह उन्हीं किसानों को दिया जा रहा है। जो रिटर्न दाखिल नहीं कर रहे। रिटर्न दाखिल करने वालों को यह लाभ नहीं मिल सकता। यही हालत परिवार पहचान पत्र तहत मिलने वाली सुविधाओं को लेकर है।

इसे भी पढ़े :यूपी के बाद अब दिल्ली में भी मास्क पहनना हुआ अनिवार्य

अकेले पानीपत में 30 हजार रिटर्न कम दाखिल

बीते वर्ष में अकेले पानीपत में 30 हजार रिटर्न कम दाखिल हो पाई है। डेढ़ लाख आयकर रिटर्न दाखिल होने के तुलना में 1.20 लाख रिटर्न ही दाखिल हुई। इस प्रकार 20 प्रतिशत से अधिक आयकर रिटर्न दाखिल होने में कमी दर्ज की गई है।

आयकर दाताओं ने की बल्ले-बल्ले

दो वर्ष कोविड को झेलने के बावजूद आयकर दाता विभाग का खजाना भरने का काम कर रहे हैं। बीते वर्ष के दौरान पानीपत के आयकर दाताओं ने 476 करोड़ रुपये आयकर भरा। जबकि पानीपत को 160 करोड़ का टारगेट ही मिला था। कोई सर्वे नहीं हुआ। आयकर विभाग ने छापेमारी नहीं की। उसके बावजूद भी 160 करोड़ के टारगेट के बाबजूद 476 करोड़ रुपये टैक्स लोगों ने अदा किया है।

आयकर सर्वे का नोटिफिकेशन नहीं हुआ

अभी पानीपत आयकर विभाग को टैक्स कलेक्शन का नया टारगेट नहीं मिला है। आयकर सर्वे दोबारा करने की तैयारी है। एक्ट में तो सर्वे को शामिल कर लिया गाय है लेकिन अभी तक नोटिफिकेशन नहीं हुआ है। नोटिफिकेशन के बाद आयकर विभाग सर्वे कर सकेगा। पिछले वर्ष आयकर सर्वे की शर्ते बदली गई थी। संयुक्त आयकर स्तर पर सर्वे बंद किया गया था। इसी कारण पानीपत में एक भी सर्वे नहीं हुआ। सर्वे के दौरान आयकर दाता को अपनी कर योग्य आय की घोषणा करनी होती है। उसी आधार पर टैक्स, जुर्माना लगाया जाता है।

 

 

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates