Homeदेशमाहे रमजान की हुई शुरुआत , आज रखा जाएगा पहला रोज़ा

माहे रमजान की हुई शुरुआत , आज रखा जाएगा पहला रोज़ा

शनिवार शाम चांद नजर आते ही माहे मुबारक रमजान की शुरुआत हो गई। रविवार को मुस्लिम समाज द्वारा पहला रोजा रखा जाएगा। इसी के साथ एक माह तक मस्जिदों और घरों में विशेष इबादतें की जाएगी। रमजान का मुबारक महीना इस बार मोमिनों के सब्र का पूरा इम्तिहान लेगा। खुदा के दरबार में अपनी अर्जी लगाने के लिए रोजेदारों ने भी पूरी तैयारी कर ली है। इस वर्ष रोजा मोमिनों के लिए न सिर्फ खास है बल्कि बेहद मुकद्दस भी माना जा रहा है। शहर के सभी मस्जिदों में रोजाना सामूहिक इफ्तार किया जाएगा। हल्द्वानी में मगरिब की नमाज के बाद जामा मस्जिद से चांद देखने का एहतमाम किया गया। जामा मस्जिद की छत से चांद का दीदार करने के बाद हाफिज सलीम ने सायरन बजाकर रमजान के चांद दिखाई पड़ने का ऐलान किया। शहर इमाम मुफ्ती आजम कादरी ने बताया कि ईशा की नमाज के बाद तरावी की नमाज होगी। रविवार को पहला रोजा रखा जाएगा। मदरसा इशातुल हक में 12 दिवसीय नमाज ए तरावीह का आयोजन भी किया गया।

यह भी पढ़ें : इमरान के मंत्री ने बताया फार्मूला ,हार के बाद भी नहीं जायेगी कुर्सी

पहला अशरा और रमजान की इबादतें
रमजान में रोजा अहम इबादत है। रमजान अल्लाह तआला का महीना है। अल्लाह फरमाता है कि रोजेदार को उसके रोजे का बदला मैं खुद दूंगा। इसे कुरआन का महीना भी कहा जाता है। रमजान में पांचों वक्त की नमाज के अलावा इशा की नमाज के बाद बीस रकात तरावीह में कुरआन का पूरे माह सुनना जरूरी है। रमजान में कुरआन की तिलावत भी अहम इबादत है। वहीं रोजा इफ्तार करवाने में भी बड़ा सवाब है। लोग इफ्तार पार्टियां भी आयोजित करते हैं।

पहले अशरे में बरसती है रहमत
रमजान महीने के 30 दिनों के हर 10 दिन को अलग-अलग अशरा कहा जाता है। पहले 10 दिन के अशरे को रहमत का अशरा कहा जाता है। इस अशरे में रोजादार इबादत करके रहमत की दुआएं मांगते हैं।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates