Homeपॉलिटिक्सनितीश कुमार ने शराबियो को कहा देशद्रोही

नितीश कुमार ने शराबियो को कहा देशद्रोही

नितीश कुमार के शराबियो को लेकर दिए गए बयान से हर कोई अचंभित है। जिसने भी नीतीश कुमार के इस बयान को सुना उसने आश्‍चर्य जाहिर किया कि आखिर जो शराब पीता है वो देश द्रोही कैसे हो सकता है? लोगों के मन में सवाल है कि नीतीश कुमार ऐसा सामान्‍य ज्ञान लाए कहां से? दरअसल, तीन दिन पहले सीएम ने बिहार विधान परिषद में कहा कि जो लोग दारू पीते हैं वो भारतीय ही नहीं! जो दारू पीते हैं वो हिंंदुस्‍तानी ही नहीं। वो महाअयोग्‍य हैं और महापापी हैं। उनका ये बयान इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है।

क्‍या देश की रक्षा करने वाले भी महापापी हैं?
बिहार की मुख्‍य विपक्षी पार्टी आरजेडी के मुख्‍य प्रवक्ता शक्ति यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बयान को समझ के परे बताया। उन्‍होंने कहा कि यह मेरे समझ से परे है कि नीतीश कुमार ऐसा सामान्‍य ज्ञान कहां से लाते हैं। उन्‍होंने कहा कि ऐसे स्‍टेटमेंट उनके ऊपर उम्र का प्रभाव बताते हैं। किसी के खान-पान रहन-सहन पर कैसे सवाल उठा सकते हैं। शक्ति यादव ने नीतीश कुमार से सवाल पूछा कि क्‍या देश की रक्षा करने वाले भी महापापी हैं? देश के लिए जान देने वाले हिंदुस्‍तानी नहीं? फौजी, सिपाही सेना के जवान भी शराब पीते हैं तो क्‍या ये लोग अयोग्‍य हैं? भारतीय नहीं हैं? शक्ति यादव ने नीतीश कुमार पर राजनीतिक हमला बोलते हुए एनबीटी ऑनलाइन से बात करते हुए कहा कि नीतीश कुमार बापू के सिद्धांतों की बात करते हैं, वो खुद बापू के हत्‍यारों का समर्थन करने वालों के साथ सरकार चला रहे हैं।

बीजेपी विधायक पवन जयसवाल ने किया बचाव
बीजेपी के तेज तर्रार नेता पवन जायसवाल ने एनबीटी ऑनलाइन से बात करते हुए कहा नीतीश कुमार का स्‍टेटमेंट बिहार के नजरिए से देखने की जरूरत है। उनके बयान को बिहार जैसे राज्‍य जहां लोग सस्‍ती शराब पीकर घर बर्बाद कर लेते हैं। पवन जायसवाल ने कहा कि वैसे सेना के लोग भी शराब पीते हैं, सेना के कैंटीन में शराब मिलती है। उन्‍होंने कहा कि ठंडी जगह और कड़ी ड्यूटी की वहज से शराब वहां दी जाती है। लेकिन बिहार में ऐसी कोई कंंडिशन नहीं है। उन्‍होंने कहा कि गुजरात में भी शराब पीना प्रतिबंधित है। कई राज्‍य हैं जिन्होंने शराब बंदी की कुछ जगह सफल रही कुछ जगह नहीं, कुछ जगह आशिंक रूप से सफल हुई।

शराब पीने वाले पापी, मीम बना रहे यूजर, सोशल मीडिया पर उड़ रहा मजाक
नीतीश कुमार के बयान के बाद सोशल मीडिया पर लोग इसकी चर्चा कर रहे हैं। लोगों का कहना है ‘महापापी और ‘भारतीय नहीं’ अकेले उत्पाद शुल्क के मामले में कर्नाटक के खजाने में 20,000 करोड़ रुपए से अधिक का योगदान किया है। एक यूजर ने कहा ‘हां मैं महापापी हूं’ एक यूजर लिखते हैं ‘चलिए इसी बहाने आधार कार्ड और पैनकार्ड से मुक्ति मिलेगी ‘ किसी ने नीतीश कुमार के स्‍टेमेंट पर को मीम मेटेरियल बताया तो किसी ने नीतीश कुमार को ही गरीब राज्‍य का बेचारा मुख्यमंत्री बता कर मजाक उड़ाया।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates