More
    Homeपॉलिटिक्सइमरान की सिफारिश पर राष्ट्रपति ने किया संसद को भंग

    इमरान की सिफारिश पर राष्ट्रपति ने किया संसद को भंग

    इस्लामाबाद । पाकिस्तान में अविश्वास प्रस्ताव के खारिज किए जाने के बाद राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने रविवार को संसद भंग कर दिया। इस पर प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश को बधाई दी और कहा कि डिप्टी स्पीकर ने विदेशी साजिश और सरकार बदलने के प्रयासों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा, ‘नए चुनावों के लिए देश को तैयारी करनी चाहिए।’ इमरान ने अविश्वास प्रस्ताव को विदेशी एजेंडा बताया और कहा कि उन्होंने राष्ट्रपति अल्वी से संसद भंग करने और नए चुनाव कराने की सिफारिश की थी।

    इमरान का विपक्ष पर निशाना
    प्रधानमंत्री इमरान खान ने विपक्ष पर निशाना साधा और कहा कि विपक्षी नेताओं ने अचकनें सिलवा ली थीं और सरकार बनाने के लिए तैयार थे लेकिन अब उनके मंसूबे धरे के धरे रह गए। बता दें कि संसद में इमरान खान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया था और इसपर वोटिंग होनी थी लेकिन डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने प्रस्ताव को ही खारिज कर दिया।

    यह भी पढ़ें गुरदासपुर : मासूम बच्ची से रेप के विरोध में सोमवार को बंद रहेंगे प्राइवेट स्कूल

    90 दिनों के भीतर होगा चुनाव
    देश के सूचना व प्रसारण मंत्री फार्रुख हबीब (Farrukh Habib) ने बताया कि राष्ट्रपति अल्वी ने प्रधानमंत्री इमरान की सिफारिश पर संसद को भंग कर दिया है। उन्होंने बताया कि 90 दिनों के भीतर चुनाव होगा। सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि कैबिनेट भंग कर दिया गया है। 342 सदस्यीय नेशनल असेंबली में प्रधानमंत्री इमरान खान को बहुमत नहीं मिल सका।

    राष्ट्रपति से इमरान खान ने की थी संसद भंग करने की सिफारिश
    पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से संसद भंग करने की सिफारिश ने सबको हैरत में डाल दिया। इसके पहले ही नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम सूरी आज के सत्र की अध्यक्षता करते हुए प्रधानमंत्री के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया था। उन्होंने इसे संविधान के अनुच्छेद 5 के विपरीत करार दिया था। इमरान खान ने इसके लिए रविवार को राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से सिफारिश की थी। अब पाकिस्तान में चुनाव होना निश्चित है। राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री इमरान खान ने बताया था कि राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से नेशनल असेंबली को भंग करने की सिफारिश कर दी गई है। इसके बाद खबर है कि विपक्ष सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने जा रहा है।

    Must Read