वैशाख अमावस्या आज इस तरह से पूजन करने से पितृ होंगे प्रसन्न

Must Read

हिंदू धर्म में अमावस्या का बहुत अधिक महत्व होता है। अमावस्या तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा की जाती है। हर माह में एक बार अमावस्या तिथि पड़ती है। इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण भी किया जाता है। अमावस्या तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, वैशाख कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि है और इस दिन शनिवार का संयोग बन रहा है। जिसके चलते इस दिन शनिचरी अमावस्या मनाई जाएगी। नदी में स्नान के बाद सूर्य को अर्घ्य देकर पितरों का तर्पण किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अमावस्या के दिन महिलाएं पति की लंबी आयु की कामना के लिए व्रत रखती हैं। आइए जानते हैं वैशाख अमावस्या की डेट, पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त…

वैशाख अमावस्या डेट- 30 अप्रैल, 2022

इस साल वैशाख अमावस्य पर साल का पहला सूर्य ग्रहण भी लगने जा रहा है। भारत में यह सूर्य ग्रहण आंशिक रूप से दिखाई देगा, जिस वजह से सूतक काल मान्य नहीं होगा।

मुहूर्त-

वैशाख, कृष्ण अमावस्या प्रारम्भ – 12:57 ए एम, अप्रैल 30

वैशाख, कृष्ण अमावस्या समाप्त – 01:57 ए एम, मई 01

पूजा- विधि

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान करें। इस दिन पवित्र नदी या सरवोर में स्नान करने का महत्व बहुत अधिक होता है। आप घर में ही नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर भी स्नान कर सकते हैं।
  • स्नान करने के बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • सूर्य देव को अर्घ्य दें।
  • अगर आप उपवास रख सकते हैं तो इस दिन उपवास भी रखें।
  • इस दिन पितर संबंधित कार्य करने चाहिए।
  • पितरों के निमित्त तर्पण और दान करें।
  • इस पावन दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।
  • इस पावन दिन भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व होता है।
  • इस दिन विधि- विधान से भगवान शंकर की पूजा- अर्चना भी करें।
- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest News

जिला पंचायत इंजीनियर तथा ठेकेदार मुकेश चंद यादव पर हत्या के लिए प्रेरित करने का मुकदमा दर्ज

  रोजगार सेवकों ने डीएम और सीडीओ को ज्ञापन सौंप 50लाख, का मुआवजा तथा मृतक की पत्नी को उसी पद...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img