Homeअपराधविकास दुबे की 50 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति जब्त करने की...

विकास दुबे की 50 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति जब्त करने की तैयारी में पुलिस

कानपुर। बिकरू कांड के बाद पुलिस मुठभेड़ में मारे जा चुके मुख्य आरोपित गैंगस्टर विकास दुबे की 50 करोड़ की संपत्तियां अब कुर्क की जाएंगी। इसके लिए बिल्हौर थाना प्रभारी उसकी चल-अचल संपत्तियों की सूची तैयार करा रहे हैं। करीब 15 दिन के भीतर यह काम पूरा होने के बाद पुलिस कुर्की की कार्रवाई शुरू करेगी।

पुलिस के मुताबिक, बिल्हौर थाना प्रभारी धनेश प्रसाद ने गैंगस्टर विकास दुबे समेत बिकरू कांड के सभी आरोपितों की चल-अचल संपत्तियों का लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) से मूल्यांकन और चिह्नीकरण पिछले दिनों शुरू कराया था। इस कड़ी में उसके खजांची जय बाजपेई की 2.97 करोड़ की चल अचल संपत्तियों को कुर्क किया जा चुका है। इसके बाद विकास के करीबी विष्णुपाल सिंह उर्फ जिलेदार सिंह का मिनी ट्रक, आटा चक्की, शिवली टाउन स्थित घर, स्कूटर, सुज्जानिवादा स्थित पैतृक मकान का आधा हिस्सा समेत करीब 40 लाख कीमत की चल अचल-संपत्तियां पांच दिन पहले ही कुर्क की गई हैं।

यह भी पढ़ें : आज से दो दिवसीय झांसी और ललितपुर के दौरे पर सीएम योगी आदित्यनाथ

जिलेदार के बाद पुलिस अब मुख्य आरोपित विकास दुबे की संपत्तियों में दो गाड़ियां, दो ट्रैक्टर-ट्राली, बिकरू गांव स्थित पैतृक मकान, लखनऊ का मकान, गांव की 12 बीघा जमीन, सकरवां की 13 बीघा जमीन, शिवली के मकान और दुकानें चिह्नित कर चुकी है। उसकी करीब 50 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्तियां होने की जानकारी पुलिस को मिली है। पुलिस के मुताबिक, बिकरू के साथ ही कानपुर नगर में भी कई जगह उसकी नामी-बेनाम संपत्तियां हैं, जिनका ब्योरा जुटाया जा रहा है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, लगभग 15 दिन में संपत्तियों को चिह्नित कर लिया जाएगा।

श्यामू को जल्द मिलेगी सजा : पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, विकास के गुर्गे और पुलिस मुठभेड़ के आरोपित गैंगस्टर श्यामू बाजपेई पर चल रहे मुकदमे में बयान और जिरह की कार्रवाई पूरी हो चुकी है। सिर्फ दोनों पक्षों को अपनी सफाई पेश करने की प्रक्रिया बाकी है। यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद श्यामू को सजा होगी।

यह था मामला : दो जुलाई, 2020 को बिकरू में कुख्यात विकास दुबे के घर दबिश डालने गई पुलिस टीम पर गैंगस्टर और उसके गुर्गों ने गोलियां बरसाई थीं। इसमें बिल्हौर के तत्कालीन सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी बलिदान हो गए थे। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी विकास दुबे समेत छह हमलावरों को अलग-अलग तारीखों व स्थानों पर हुई मुठभेड़ में ढेर कर दिया था। मामले में कुल 80 मुकदमे दर्ज हुए हैं, जिसमें 62 मुकदमों में चार्जशीट लगाई जा चुकी है।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates