Homeपंजाबपंजाब में गहराया बिजली संकट, घंटो की कटौती झेल रहे लोग

पंजाब में गहराया बिजली संकट, घंटो की कटौती झेल रहे लोग

पटियाला। राज्य में बिजली संकट गहरा गया है। थर्मल प्लांटों के यूनिटों में तकनीकी खराबी आने के बाद बिजली उत्पादन प्रभावित होने का सिलसिला मंगलवार को भी जारी रहा। सोमवार देर शाम बिजली उत्पादन बंद करने वाले रूपनगर थर्मल प्लांट का पांच नंबर यूनिट मंगलवार को भी नहीं चल पाया। इससे पावरकाम को 210 मेगावाट बिजली उत्पादन का नुक्सान हुआ। वहीं गर्मी के कारण बढ़ रही मांग के मुकाबले बिजली की कम उपलब्धता पावरकाम के लिए संकट बनी हुई है।

यह भी पढ़ें : लखनऊ के जिलाधिकारी ने हादसे में घायल रिक्शेवाले को अपनी गाड़ी से पहुंचाया अस्पताल

मंगलवार को राज्य में बिजली की अधिकतम मांग 10,300 मेगावाट दर्ज की गई जबकि पावरकाम 9,293 मेगावाट बिजली ही मुहैया करवा पाया। मांग के मुकाबले 1000 मेगावाट बिजली की कमी के कारण राज्य में लुधियाना, पटियाला, मुक्तसर, संगरूर, गुरदासपुर, मंडी गोबिंदगढ़, बरनाला, फिरोजपुर आदि शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में 4 से 6 घंटे तक अघोषित बिजली कट लगाए गए। इसके अलावा बुधवार काे भी कई जिलाें में बिजली संकट बरकरार रहा।

सेंट्रल पूल से पावरकाम ने 4399 मेगावाट बिजली हासिल की
पावरकाम को अपने रूपनगर थर्मल से 527 मेगावाट, लहरा मोहब्बत से 794 मेगावाट, राजपुरा से 1335 मेगावाट, तलवंडी साबो से 1204 मेगावाट और गोइंदवाल साहिब थर्मल प्लांट से 208 मेगावाट बिजली मिली। तलवंडी साबो और गोइंदवाल साहिब का एक-एक यूनिट बंद पड़ा है। जिस कारण पावरकाम को 930 मेगावाट बिजली उत्पादन का नुकसान हो रहा है। हाइडल प्रोजेक्ट रणजीत सागर डैम से पावरकाम को 130 मेगावाट बिजली मिली। वहीं सेंट्रल पूल से पावरकाम ने 4399 मेगावाट बिजली हासिल की। गाैरतलब है कि हर साल पंजाब में गर्मी के माैसम में बिजली संकट रहता है। इसके चलते लाेगाें काे जनरेटर और इन्वर्टर का सहारा लेना पड़ा है।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates