Homeपॉलिटिक्ससंयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् से रूस निलंबित, भारत ने नहीं दिया वोट

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद् से रूस निलंबित, भारत ने नहीं दिया वोट

लंदन: संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विश्व की शीर्ष मानवाधिकार संस्था से रूस को बृहस्पतिवार को निलंबित कर दिया. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से रूस को निलंबित करने के लिए अमेरिका द्वारा लाए गए एक प्रस्ताव को पारित करने के लिए 193 सदस्यीय महासभा (यूएनजीए) में इसके (प्रस्ताव के) पक्ष में 93 मत पड़े, जबकि भारत सहित 58 देश अनुपस्थित रहे.

‘मानवाधिकार परिषद में रूसी संघ की सदस्यता के निलंबन अधिकार’ शीर्षक वाले प्रस्ताव के खिलाफ 24 मत पड़े. मतदान से अनुपस्थित देशों में भारत के अलावा बांग्लादेश, भूटान, ब्राजील, मिस्र, इंडोनेशिया, इराक, मलेशिया, मालदीव, नेपाल, पकिस्तान, कतर, सउदी अरब, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और संयुक्त अरब अमीरात भी शामिल हैं.

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने मतदान के बाद कहा, ‘भारत ने आज (बृहस्पतिवार) महासभा में रूसी महासंघ को मानवाधिकार परिषद से निलंबित करने से संबधित प्रस्ताव पर मतदान में भाग नहीं लिया. हमने तर्कसंगत और प्रक्रिया सम्मत कारणों से यह किया.’

यह भी पढ़ें : महंत ने कथित तौर पर दी समुदाय विशेष की महिलाओ से रेप की धमकी केस दर्ज़

उन्होंने कहा, ‘यूक्रेन में युद्ध की शुरुआत से लेकर अब तक भारत शांति, संवाद और कूटनीति का पक्षधर रहा है. हमारा मानना है कि खून बहाने और निर्दोष लोगों के प्राण लेने से किसी समस्या का समाधान नहीं निकल सकता. यदि भारत ने कोई पक्ष लिया है तो वह है शांति और हिंसा को तत्काल समाप्त करने का.’

एक रिपोर्ट के अनुसार, इस साल जनवरी से भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद, महासभा और मानवाधिकार परिषद में प्रक्रियात्मक वोटों और मसौदा प्रस्तावों से परहेज किया है, जिन्होंने यूक्रेन के खिलाफ रूसी आक्रमण को अस्वीकार कर दिया था.

इससे पहले बीते पांच अप्रैल को भारत ने यूक्रेन के बुचा में नागरिकों की हत्याओं की ‘गहरी परेशान करने वाली’ रिपोर्टों की स्पष्ट रूप से निंदा की थी और एक स्वतंत्र जांच के आह्वान का समर्थन किया था.

यूक्रेन के विदेश मंत्री दमित्रो कुलेबा ने ट्वीट किया कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से रूस को अभी-अभी निलंबित कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि युद्ध अपराधियों के लिए संयुक्त राष्ट्र की संस्थाओं में कोई जगह नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘सभी सदस्य देशों का आभारी हूं जिन्होंने संबंधित यूएनजीए प्रस्ताव का समर्थन किया और इतिहास में सही पक्ष के साथ खड़े हुए.’ यूक्रेन में रूसी सैनिकों द्वारा मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन करने के आरोपों से जुड़े इस प्रस्ताव को पारित किया गया.

अमेरिका और यूक्रेन ने रूसी सैनिकों के इस कृत्य को युद्ध अपराध करार दिया है.

उल्लेखनीय है कि रूस दूसरा देश है, जिसकी यूएनएचआरसी सदस्यता छीन ली गई है. महासभा ने 2011 में लीबिया को परिषद से निलंबित कर दिया था.

 

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates