Homeमनोरंजनआशा भोसले की ज़िन्दगी से जुड़े कुछ खास पल

आशा भोसले की ज़िन्दगी से जुड़े कुछ खास पल

आशा भोसले का आज जन्मदिन है. इनका जन्म 08 सितम्बर 1933 को महाराष्ट्र के सांगली जिले के एक मराठी परिवार में हुआ था। इनके पिता दीनानाथ मंगेशकर प्रसिद्ध गायक एवं नायक थे। जिन्होंने शास्त्रीय संगीत की शिक्षा काफी छोटी उम्र में ही आशा को दी।आशा भोसले ने अपने करीब 8 दशक के करियर में 20 से अधिक भाषाओं में गानों को आवाज दी और कई अवॉर्ड्स अपने नाम किए। इस बात को काफी कम लोग जानते हैं कि आशा भोसले ने बतौर एक्ट्रेस भी सिनेमाई दुनिया में अपना जलवा बिखेरा। बहन लता मंगेशकर की तरह ही आशा भोसले ने भी हिंदी सिनेमा को कई सदाबहार और दिलकश नगमें दिए। जन्मदिन पर आपको बताते हैं आशा भोसले के बारे में कुछ खास बातें. आशा भोसले ने जो बुलंदियां छुई हैं, वो हर किसी को नहीं मिलती हैं और इसके लिए उन्होंने खूब मेहनत भी की। आशा भोसले ने 10 साल की उम्र से ही गाना शुरू कर दिया था।

ये भी पढ़िए –मायावती ने यूपी सरकार पर कसा तंज

रिपोर्ट्स के मुताबिक सिर्फ 20 से अधिक भाषाओं में ही नहीं, बल्कि करीब 16 हजार गानों तक को आशा अपनी आवाज दे चुकी हैं। वहीं सर्वाधिक एकल स्‍टूडियो रिकॉर्डिंग के लिए उनका नाम गिनीज बुक में भी दर्ज है। आशा का पहला गीत फिल्म चुनरिया के लिए साल 1948 में ‘सावन आया’ गाया था। आशा ने हिंदी के साथ ही मराठी, बंगाली, गुजराती, पंजाबी, भोजपुरी, तमिल, मलयालम, अंग्रेजी और रूसी भाषा में भी गाने गाए हैं। एक ओर जहां आशा भोसले ने प्रोफेशनल लाइफ में सितारों को चूमा तो दूसरी ओर पर्सनल लाइफ में काफी मुसीबतें भी झेलीं। आशा ने करीब 16 साल की उम्र में दोगुनी उम्र के गणपतराव भोसले से शादी की थी और उनका परिवार इस शादी के खिलाफ था।

ये भी पढ़िए –ईशान ने ब्रेकअप के बाद अनन्या की किया तारीफ

गणपतराव के परिवार ने आशा को कभी स्वीकारा नहीं और कहा जाता है कि उनके साथ ससुराल में मारपीट भी होती थी और एक दिन उन्हें बच्चों के साथ ही घर से निकाल दिया। इसके बाद साल 1980 में आशा ने राहुल देव बर्मन से शादी की। आर डी बर्मन, आशा से करीब 6 साल छोटे थे। आशा भोसले ने कई अवॉर्ड्स और सम्मान जीते हैं। आशा भोसले ने 2 नेशनल फिल्म अवॉर्ड्स, 4 बीएफजेए अवॉर्ड्स, 18 महाराष्ट्र स्टेट फिल्म अवॉर्ड्स, 9 फिल्म फेयर अवॉर्ड्स, लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड, बेस्ट प्लेबैक सिंगर के 7 फिल्मफेयर अवॉर्ड, 2 ग्रैमी नॉमिनेशन्स, दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड और पद्म विभूषण सहित कई अन्य खिताब जीते हैं। वहीं बात आशा के गानों की करें तो वैसे तो उन्होंने कई उम्दा गानों को अपनी आवाज दी है, लेकिन पांच गाने ऐसे हैं, जिनके बिना हिंदी सिनेमा अधूरा कहा जा सकता है.

ये भी पढ़िए –तमंचे के दम पे डिलीवरी ब्‍वॉय से लूटपाट

– अभी न जाओ छोड़कर (फिल्म- हम दोनों)- इन आंखों की मस्ती के (फिल्म- उमराव जान)
– दम मारो दम (फिल्म- हरे रामा हरे कृष्णा)
– आओ हुजूर तुमको (फिल्म- किस्मत)
-पर्दे में रहने दो (फिल्म- शिखर)

ये भी पढ़िए –सीएम योगी आज वाराणसी दौरे पर

आशा भोसले ने एक ओर जहां अपनी आवाज के जादू से हर किसी को मंत्रमुग्ध किया तो दूसरी ओर उन्होंने गायकी के अलावा अपने दूसरे प्यार का भी कई बार जिक्र किया। दरअसल आशा को कुकिंग का भी खूब चस्का रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आशा का दुबई में रेस्टोरेंट भी है। कहा जाता है कि उनका रेस्टोरेंट करीब 20 साल पुराना है। कुछ वक्त पहले आशा भोसले का कुकिंग करते हुए एक वीडियो भी सामने आया था, जिसे सोशल मीडिया यूजर्स ने काफी पसंद किया था।

ये भी पढ़िए –यूपी सरकार रोजगार देने में सबसे आगे

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates