Homeएजुकेशनगणित के जटिल प्रश्नों से छात्रों के अंक हुए कम

गणित के जटिल प्रश्नों से छात्रों के अंक हुए कम

जेईई-एडवांस्ड 2022 के परिणाम में पास प्रतिशत और योग्यता अंकों में कमी की वजह पेपर का कठिन और लंबा होना रहा। जेईई-एडवांस्ड से जुड़े विशेषज्ञों का कहना है कि गणित का पेपर लंबा था तो भौतिक के ट्रिकी प्रश्नों में छात्र उलझ गए थे। रसायन विषय का एक पेपर सही था लेकिन दूसरा मुश्किल था। इसी वजह से शीर्ष स्थान पर रहे आरके शिशिर के भी 314 अंक आए। इसी तरह से अन्य छात्रों को कम अंक मिले।

ये भी पढ़ें-विदेशी चिकित्सा स्नातक परीक्षा दिसंबर सत्र के लिए आवेदन शुरू

वर्ष 2020 और 2021 में कॉमन रैंक लिस्ट या सीआरएल के लिए कटऑफ प्रत्येक विषय में पांच प्रतिशत और कुल मिलाकर 17.5 प्रतिशत थी। इस बार एक अभ्यर्थी को प्रत्येक विषय (भौतिकी, रसायन विज्ञान, गणित) में 4.40 प्रतिशत और कुल मिलाकर 15.28 प्रतिशत अंक हासिल करने थे।

इसके अलावा उम्मीदवारों को रैंक सूची में शामिल होने के लिए विषयवार और कुल योग्यता अंक दोनों को पूरा करना होगा। 2019 में, योग्यता कटऑफ अंक प्रत्येक विषय में 10 प्रतिशत और कुल मिलाकर 25 प्रतिशत थे। विशेषज्ञों का कहना है कि किसी दिए गए वर्ष में कटऑफ में गिरावट का कारण आमतौर पर कठिन प्रश्न पत्रों होते हैं।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates