More
    Homeउत्तर प्रदेशसुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश अब जेल में कैद इन कैदियों को...

    सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश अब जेल में कैद इन कैदियों को मिलेगी स्वतंत्रता

    फर्रुखाबाद। सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय पर वर्षों से जेल की काल कोठरी में कैद प्रदेश के हजारों बंदियों को जमानत मिल जाएगी और वह जेल से रिहा होकर स्वच्छंद घूम सकेंगे, फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल में अब तक इस निर्णय के बाद 200 बंदी रिहां हो चुके हैं जबकि 250 बंदियों की फाइलें तैयार होकर बन चुकी हैं वह भी शीघ्र जेल से रिहा हो जाएंगे।

    यह भी पढ़ें : रूस ने चेतावनी दी है कहा यूक्रेन को नाटो हथियारों की आपूर्ति पर हमले की करेगा कोशिश

    सेंट्रल जेल में इस समय अट्ठारह सौ 95 सिद्धोष बंदी आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं यह बंदी हैं जिन्होंने जघन्य अपराध किए हैं जिसमें एक हत्या नहीं एक के ऊपर कई कई हत्याओं के आरोप न्यायालय से सिद्ध होकर सजा काट सजा काट रहे हैं।

    आगरा के बंदी सौदान सिंह ने कई बंदियों के साथ सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दाखिल कर मांग की थी की जेलों में बंद कैदियों की अपील पर न्यायालय 10 साल से सुनवाई नहीं कर रहा है जिससे कि बंदियों के मौलिक एवं जीवन रक्षा के अधिकारों का खनन हो रहा है साथी यह मांग की गई कि ऐसे हजारों की संख्या में कैदी हैं जो बरसों से जेल में कैद हैं और जो विभिन्न असाध्य रोगों से पीड़ित होकर सजा काट रहे हैं 10 12 वर्षों से इन बंदियों की अपीलों पर न्यायालय से न्यायालय में ना तो सुनवाई हो रही है और ना ही बेल मिल रही है।

    न्यायालय ने बंदियों की याचिका पर साहनभूति पूर्ण सुनवाई करते हुए उन्हें बेल देने के आदेश दिए हैं ,और जेल से ही उनका ब्यौरा मांग कर उन्हें बेल पर रिहा किया जा रहा है।

    सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय से प्रदेश की जेलों में बंद उन सिद्धोष बंदियों को रिहा कर दिया जाएगा जिनकी अपीलों पर 10 वर्ष से कोई सुनवाई नहीं हुई है उन्हें बेल दे दी जाएगी।

    फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल से 200 बंदी रिहा हो चुके हैं और ढाई सौ बंदी रिहाई की कतार में है वह भी शीघ्र छूट जाएंगे।

    अब जेल प्रशासन 10 वर्ष से अधिक जेल में बिता चुके बंदियों की सूची बनाकर शासन को भेज रहा है जिनकी अपीले न्यायालय में लंबित हैं और उन पर कोई सुनवाई नहीं हुई है।

    सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर उन बंदियों को राहत मिलेगी जो जेल की चारदीवारी की चारदीवारी में कैद होकर जेल को ही अपनी दुनिया मान रहे थे अब ऐसे बंदी जिनकी उम्र 75 ,70, 65,60,50, 45 है जिन्हें न्यायालय के निर्णय के बाद जेल में कैद थे वह सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय पर जेल जेल से बेल पर छूट जाएंगे।

    सेंट्रल जेल के वरिष्ठ अधीक्षक प्रमोद कुमार शुक्ला का ईश्वर कहना है की सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर सेंट्रल जेल सैकड़ों बंदी बेल पर छूट जाएंगे इस निर्णय से जेल के बंदियों में काफी उत्साह है और वह रोजाना धार्मिक और अध्यात्म पर चर्चा कर रहे हैं और ऐसे बंदियों में जीवन जीने की एक किरण फूटी है कि वह बेल पर अपने घर जाकर परिवार में रहेंगे और सुखद जीवन व्यतीत करेंगे

    Must Read