Homeपॉलिटिक्सकांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए थरूर और गहलोत आ सकते है आमने-सामने

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए थरूर और गहलोत आ सकते है आमने-सामने

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस इन दिनों बदलाव के दौर से गुजर रही है। लंबे समय बाद कांग्रेस में अध्यक्ष पद के चुनाव का ऐलान किया गया है। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया के लिए 22 सितंबर को अधिसूचना जारी की जाएगी। मतदान 17 अक्टूबर को होगा, 19 अक्टूबर को पार्टी के नए अध्यक्ष का ऐलान होगा। चुनाव की तारीख नजदीक आते ही संभावित प्रत्याशियों को लेकर तस्वीरें साफ होने लगी है। सोमवार को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शशि थरूर को अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने पर सहमति जता दी है। अब कयास लगाया जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और शशि थरूर में मुकाबला होगा।

ये भी पढ़िए –पुलिस के हत्थे चढ़ा सुरेश रैना के रिश्तेदार का क़ातिल

सोनिया गांधी के विदेश से लौटने के बाद थरूर और कुछ अन्य कांग्रेस नेताओं ने मुलाकात की। इस दौरान सोनिया गांधी ने थरूर के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने को लेकर सहमति जता दी। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार अध्यक्ष पद की दावेदारी में शशि थरूर का नाम तो क्लियर है, लेकिन अशोक गहलोत नाम पर संशय है। अशोक गहलोत मुख्यमंत्री पद छोड़ने और दिल्ली जाने के लिए अनिच्छुक हैं। लेकिन पार्टी की ओर से अशोक गहलोत सबसे पसंदीदा विकल्प है। इसके पीछे तर्क यह दिया जा रहा है कि अशोक गहलोत पार्टी के वरिष्ठ नेता होने के साथ-साथ गांधी परिवार के वफादार हैं। इधर पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा, जो कोई भी चुनाव लड़ना चाहता है वह स्वतंत्र है और ऐसा करने के लिए स्वागत है।

ये भी पढ़िए –कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ेगे शशि थरूर

यह कांग्रेस अध्यक्ष और राहुल गांधी की लगातार स्थिति रही है। यह एक खुली, लोकतांत्रिक और पारदर्शी प्रक्रिया है। किसी को भी चुनाव लड़ने के लिए किसी की अनुमति की आवश्यकता नहीं है। जहां 22 सितंबर को चुनाव की अधिसूचना जारी की जाएगी। सूत्रों के अनुसार जी-23 समूह एक उम्मीदवार को खड़ा करने के लिए कमर कस रहा है और तिरुवनंतपुरम के सांसद थरूर इसकी शीर्ष पसंद हैं, पार्टी के वफादारों के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पसंदीदा विकल्प हैं। चर्चा यह भी है कि यदि किसी कारणवश गहलोत चुनाव से पीछे हटते हैं तो पूर्व केंद्रीय मंत्री मुकुल वासनिक या राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे दावेदारी ठोक सकते है। इस बीच, कांग्रेस की राज्य इकाइयां राहुल गांधी को अगला पार्टी अध्यक्ष बनाने के लिए प्रस्ताव पारित कर रही हैं, जिसमें राजस्थान, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ शामिल हैं। हालांकि, कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण (सीईए) ने कहा है कि ऐसे प्रस्तावों का चुनाव प्रक्रिया पर कोई असर नहीं पड़ेगा। सीईए के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने कहा, इन प्रस्तावों का चुनाव प्रक्रिया पर कोई असर नहीं है।

ये भी पढ़िए –लखनऊ के शैलेश अस्थाना के दर्यादिली ने बना दिया रिकॉर्ड

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates