More
    Homeदिल्लीदिल्ली : थम नहीं रही कोरोना वायरस की रफ्तार, 1300 से अधिक...

    दिल्ली : थम नहीं रही कोरोना वायरस की रफ्तार, 1300 से अधिक मामले आए सामने

    नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में कोरोना वायरस के मामलों की रफ्तार जिस गति से बढ़ रही है वह डराने वाली है। राजधानी दिल्ली में बुधवार को 24 घंटे के दौरान 1300 से अधिक मामले सामने आए हैं, जो 6 फरवरी के बाद सबसे ज्यादा हैं। वहीं गुरुग्राम, फरीदाबाद, नोएडा और गाजियाबाद में भी कोरोना के बढ़ते मामलों ने लोगों को सांसत में डालना शुरू कर दिया है।

    क्या रात्रि कर्फ्यू लगाने का जैसा कदम उठाएगी दिल्ली सरकार?
    कोरोना की संभावित चौथी लहर को लेकर अरविंद केजरीवाल पहले ही कह चुके हैं कि अभी हालात काबू में है और हम हालात पर पूरी तरह नजर रखे हुए हैं। वहीं, अब हालात पूर्व की तरह नहीं हैं। वहीं, क्या कोरोना मामलों के बढ़ते डर के बीच दिल्ली सरकार एक बार फिर राजधानी दिल्ली में कर्फ्यू लगा सकती है। इस बारे में नियम बताते हैं कि अगर 3-5 दिनों के लिए सकारात्मकता दर 5 प्रतिशत से ऊपर रहती है तो सरकार कर्फ्यू लगा सकती है। पिछले कई दिनों से दिल्ली में सकरात्मकता दर 5 प्रतिशत से ऊपर है। दिल्ली में तो 6.42 प्रतिशत हो गई है।

    यह भी पढ़ें : बिहार की राजधानी में एक शख्स ने बेटी और पत्नी की हत्या कर की खुदखुशी

    विशेषज्ञों ने कही सख्ती की बात
    वहीं, स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना ​​​​है कि दिल्ली सरकार को राष्ट्रीय राजधानी में Covid -19 मामलों के कम होने तक कर्फ्यू लगाना चाहिए। वहीं, दिल्ली सरकार के सूत्रों का मानना ​​​​है कि जब तक कम अस्पताल में भर्ती नहीं होंगे, तब तक कर्फ्यू की आवश्यकता नहीं है।

    दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री बोले- घबराने की जरूरत नहीं
    इस बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा है कि शहर में फिलहाल करीब 5000 सक्रिय मरीज हैं लेकिन इनमें से बहुत कम अस्पताल में भर्ती हैं। हमारे पास दिल्ली में 10,000 बेड की सुविधा है और केवल 100 बेड ही फुल हैं। इसके साथ ही हम हर नागरिक को बूस्टर डोज लगवाने की भी तैयारी कर रहे हैं, इसलिए कोरोना वायरस से घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

    पीएम मोदी ने भी दिया राज्यों को निर्देश, टीकाकरण तेज हो
    वहीं, देशभर में कोरोना के बढ़ते मामले के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुवल बैठक में कहा कि पिछले दो हफ्तों के दौरान कुछ राज्यों में जिस प्रकार से कोरोना वायरस के मामले बढ़े हैं, हालांकि उन्होंने किसी राज्य का नाम लिया। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना महामारी की चुनौती अभी पूरी तरह टली नहीं है। देशवासियों से सतर्क रहने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि मौजूदा चुनौतियों के मद्देनजर उनकी सरकार की प्राथमिकता सभी योग्य बच्चों का जल्द से जल्द टीकाकरण करना है।

    थम नहीं रही कोरोना वायरस की रफ्तार, क्या सख्त उठाने की ओर बढ़ेगी सरकार
    कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार भी सक्रिय हो गई है। उधर, कोरोना की संभावित चौथी लहर को लेकर भले ही सरकारी स्तर पर कुछ नहीं कहा गया हो, लेकिन दिल्ली में कोरोना की रफ्तार डराने वाली है। देश के किसी राज्य में इतना अधिक गति से कोरोना के मामले सामने नहीं आ रहे हैं। दिल्ली-एनसीआर को मिला लें तो देश के आधे से अधिक मामले यहीं से आ रहे हैं।

    दिल्ली में बढ़ा सकारात्मकता दर
    दिल्ली में पिछले तकरीबन एक सप्ताह से 1000 से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। इस बीच दिल्ली में सकारात्मकता दर बढ़कर 6.42 प्रतिशत हो गई है, जो चिता बढ़ाने वाली है। इसके साथ दिल्ली में कोरोना के सक्रिय मामले 4,000 के आंकड़े को पार कर गए हैं। फिलहाल दिल्ली में सक्रिय मामलों की संख्या 4,168 हैं जो 12 फरवरी के बाद सबसे अधिक है। माना जा रहा है कि बृहस्पतिवार ही संक्रिय मामलों की संख्या 5000 से पार चली जाएगी।

    गाजियाबाद से भी आई बुरी खबर
    दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के नोएडा और गाजियाबाद शहर में कोरोना की रफ्तार जारी है। इस कड़ी में बृहस्पतिवार को 24 घंटे के दौरान 10 छात्रों समेत 54 लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। वहीं, कुल 4,047 लोगों की कोरोना जांच की गई थी। पीड़ितों में सर्वाधिक 28 युवा शामिल हैं। आंकड़ों पर जाएं तो तकरीबन एक सप्ताह के दौरान कुल 116 युवा संक्रमित हो चुके हैं। दिल्ली और गाजियाबाद के बीच आवाजाही अधिक है, इसलिए दिल्ली में मामलों में बढ़ोतरी का असर यहां पर भी देखा जा रहा है।

     

    Must Read