More
    Homeउत्तर प्रदेशमौलिक अधिकार की श्रेणी में नहीं आता मस्जिदों पर लाउडस्पीकर लगाना :...

    मौलिक अधिकार की श्रेणी में नहीं आता मस्जिदों पर लाउडस्पीकर लगाना : इलाहाबाद हाईकोर्ट

    प्रयागराज: उत्तर प्रदेश में लाउडस्पीकर की गर्दन दबोचने का अभियान बदस्तूर जारी रहेगा। यूपी सरकार ने धार्मिक स्थलों पर लगे लाउडस्पीकर की आवाज को कम कराने का अभियान चलाया है। इसमें तेज आवाज में बजाए जाने वाले लाउडस्पीकर को उतारा भी जा रहा है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने धार्मिक स्थलों में पूजा-इबादत की आवाज को परिसर तक ही सीमित करने का आदेश दिया है। इसके बाद यूपी पुलिस की ओर से लाउडस्पीकरों पर दबिश बनाई गई। इस संबंध में मामला इलाहाबाद हाई कोर्ट पहुंचा तो वहां भी लाउडस्पीकर के पैरोकारों को बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने साफ किया है कि मस्जिदों पर लाउडस्पीकर लगाना मौलिक अधिकार के दायरे में नहीं आता है। इस टिप्पणी के साथ ही कोर्ट ने लाउडस्पीकर लगाए जाने संबंधी याचिका को खारिज कर दिया।

    उत्तर प्रदेश में लाउडस्पीकर पर जोरदार सियासत चल रही है। पिछले दिनों समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी करारा हमला बोला था। इन तमाम विवाद के बीच इलाहाबाद हाई कोर्ट का बड़ा आदेश सामने आया है। कोर्ट ने कहा है कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर का प्रयोग करना मौलिक और संवैधानिक अधिकार नहीं है। इलाहाबाद हाई कोर्ट के दो जजों की पीठ ने मस्जिद में लाउडस्पीकर लगाने की याचिका को इस आदेश के साथ खारिज कर दिया।

    यह भी पढ़ें : लीज आवंटन मामले में सीएम हेमंत सोरेन के खिलाफ याचिका की सुनवाई टली

    क्या है पूरा मामला?
    उत्तर प्रदेश में एक तरफ लाउडस्पीकर के खिलाफ अभियान जारी है। वहीं, लाउडस्पीकर लगाए जाने की अनुमति मांगे जाने पर इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश को बड़े परिपेक्ष्य में देखा जा रहा है। मामला दिसंबर 2021 का है। बदायूं के बिसौली गांव में एक मस्जिद पर लाउडस्पीकर लगाकर अजान की मांग से संबंधित आवेदन एसडीएम के समक्ष किया गया। 3 दिसंबर 2021 को एसडीएम ने लाउडस्पीकर लगाने की अनुमति देने से इनकार कर दिया।

    एसडीएम के आदेश के खिलाफ इरफान ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दायर कर दी। उसने एसडीएम के आदेश को चुनौती दी। इरफान की याचिका पर गुरुवार को जस्टिस वीके बिड़ला और जस्टिस विकास ने खारिज कर दिया। दोनों जजों ने कहा कि अब यह स्थापित हो चुका है कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर का उपयोग मौलिक अधिकार नहीं है।

    लाउडस्पीकर पर अभी मचा है बवाल
    लाउडस्पीकर से संबंधित याचिका भले ही दिसंबर 2021 की हो, लेकिन अभी यह विवाद काफी गरमाया हुआ है। हनुमान जयंती के मौके पर दिल्ली में हुई हिंसा के बाद से लाउडस्पीकर के खिलाफ अभियान तेज किया गया है। योगी आदित्यनाथ सरकार ने सभी धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर को हटाए जाने या आवाज धीमी करने का आदेश दिया है। आवाज धीमी नहीं करने वाले संस्थानों के खिलाफ कार्रवाई की बात कही गई है। वहीं, ऐसे स्थानों से लाउडस्पीकर हटाने का अभियान भी चल रहा है। सीएम योगी ने तय मानक से अधिक आवाज में लाउडस्पीकर नहीं बजाने के आदेश दिए हैं। इस पर देश में खूब राजनीति हो रही है।

     

    Must Read