Homeपॉलिटिक्समुजफ्फरपुर शहर में पानी की किल्लत, एक दर्जन मुहल्ले हुए प्रभावित

मुजफ्फरपुर शहर में पानी की किल्लत, एक दर्जन मुहल्ले हुए प्रभावित

मुजफ्फरपुर, एक ओर बढ़ती गर्मी से लोग परेशान हैं, वहीं दूसरी ओर लोगों को पेयजल संकट से भी जूझना पड़ रहा है। शहर के एक दर्जन मुहल्लों में रहने वाले सैकड़ों परिवारों को पेयजल संकट का सामना करना पड़ रहा है। अखाड़ाघाट पंप दो दिनों से खराब है जिससे इसके आसपास के मुहल्लों में निगम की जलापूर्ति व्यवस्था बाधित है। इस कारण सिकंदरपुर, अखाड़ाघाट एवं बालूघाट में लोगों को पानी के लिए भटकना पड़ रहा है। वहीं वार्ड 18 में लगा सबमर्सिबल पंप बीते एक माह से पानी नहीं दे रहा है। इसके कारण सौ से अधिक परिवार पानी की किल्लत का सामना कर रहे हैं। स्थानीय वार्ड पार्षद संजू देवी निगम प्रशासन एवं महापौर से लगातार इस समस्या से निजात को बोल रही हैं, लेकिन इसपर किसी का ध्यान नहीं।

पानी नहीं मिलने से नाराज लोगों की नाराजगी पार्षद को झेलनी पड़ रही है। वहीं वार्ड 30 स्थित प्रजापिता ब्रह्माकुमारी गली में सड़क निर्माण के दौरान पाइप लाइन क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण सैकड़ों गैलन पानी सड़क एवं नाले में बह रहा है। लोगों के घरों तक बीते पांच दिनों से पानी नहीं पहुंच पा रहा है। पाइप लाइन की मरम्मत संवेदक एवं निगम के बीच फंसा गया है। नगर आयुक्त विवेक रंजन मैत्रेय ने गर्मी को देखते हुए पाइप लाइन निरीक्षकों को पंप एवं पाइप लाइनों पर नजर रखने का निर्देश दिया था। इसके बावजूद निगम द्वारा लापरवाही बरती जा रही है। वहीं नगर निगम के जल शाखा प्रभारी का कहना है कि सिर्फ अखाड़ाघाट पंप खराब है। बाकी सभी पंप हाउस ठीक है। खराब पंप को ठीक किया जा रहा है।

इसे भी पढ़े :अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में बम धमाकों से 6 की मौत

बेला औद्योगिक परिसर से जलनिकासी के लिए बनेंगे सात कल्वर्ट : मुजफ्फरपुर, बेला औद्योगिक परिसर को जलजमाव से मुक्ति दिलाने के लिए नाले का निर्माण कराया जाएगा। सात कल्वर्ट का निर्माण होगा। बेला औद्योगिक क्षेत्र विकास प्राधिकार के प्रभारी कार्यकारी निदेशक रविरंजन प्रसाद व प्रबंधक प्रशांत कुमार ने सोमवार को औद्योगिक क्षेत्र का निरीक्षण किया। परिसर की समस्याओं से उद्यमियों ने अवगत कराया। उत्तर बिहार उद्यमी संघ के अध्यक्ष नीलकमल ने बताया कि संयुक्त बैठक में पहले चरण में तीन समस्या के निदान पर सहमति बनी। जलजमाव नहीं हो इसके लिए कल्वर्ट बनाए जाएंगे। स्ट्रीट लाइट लगेगी। चहारदीवारी कराई जाएगी। बरसात से पहले नाले निर्माण का काम पूरा किया जाएगा। सचिव विक्रम कुमार विक्की ने कहा कि जलजमाव उद्यमियों की सबसे बड़ी समस्या है। हर साल जलजमाव से उद्यमियों का लाखों का नुकसान होता है। साथ ही स्ट्रीट लाइट और चहारदीवारी टूटी रहने से आए दिन उद्यमियों व मजदूरों के साथ लूटपाट होती रहती है। पिछले दिनों एक हत्या भी हो गई थी। परिसर की सुरक्षा बहुत ही जरूरी है। मौके पर अवनीश किशोर, उद्यमी पुष्कर शर्मा, संगठन मंत्री शशांक श्रीवास्तव, तारा शंकर, अजीत कुमार आदि मौजूद थे।

Stay Connected
16,985FansLike
61,453SubscribersSubscribe
Latest Post
Current Updates